Thursday, January 5, 2012

मसला ही मसला है

रायपुर में आज मीडिया विमर्श पत्रिका के एक आयोजन में शिरकत करने का मौका मिला। आयोजन में भाजपा के प्रवक्ता प्रकाश जावड़ेकर और छत्तीसगढ़ सरकार के गृहमंत्री ननकीराम कंवर और कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहू भी पधारे थे। जावड़ेकर साहब ने अपने भाषण से जहां सबका दिल जीत लिया,वहीं चंद्रशेखर साहू ने मीडिया की भूमिका पर ही सवाल उठा दिया। उन्होंने कहा कि,मीडिया किसानों के मुद्दों को उठाने से परहेज करती है,लेकिन दोस्तों मैं बता दूं कि,जब एक हफ्ते पहले ही एक चैनल ने साहू के विधानसभा क्षेत्र में किसानों की खुदकुशी का मामला उठाया तो मंत्रीजी ने अपनी राजनीति ताकत का इस्तेमाल करते हुए खबर को रुकवा दिया। अब साहू जी को कौन बताए कि,मीडिया क्या कर रहा है और वो क्या बोल रहे हैं। संगोष्ठी में उन्होंने एक शेर के जरिए भाषण का अंत किया "मसला ये नहीं कि,मसले का हल कौन करेगा,मसला ये है कि,पहल कौन करेगा?" समझा जा सकता है कि,मसला क्या है,और पहल करने वाला कौन है?