Thursday, January 13, 2011

डांस के बदलते मायने



चूकि में बिहार का रहने वाला हू.इसीलिए शुरुआत करते है बिहार से ही.१९९९ में दरभंगा से इंटर करने के बाद आगे की पढाई करने के लिए पटना आया.कुछ दिनों बाद काफी सारे दोस्त बन गए.उन्ही लोगो से पता चला कि सोनपुर मेल में इसबार एक से बढ़कर एक थेयेटर आये है.कोई शोभा सम्राट थेयेटर का नाम ले रहा था तो कोई गुलाब विकास थेयेटर कि तारीफ कर रहा था.में सोच में पड़ गया क्योकि बचपन से सुनता आया था कि सोनपुर मेला पशुओं के लिया फेमस है.पर पटना आने के बाद पता चला कि पशुओ की जगह ले ली है थेयेतारों ने.मेरी उत्सुकता बढ़ी और में भी पंहुचा सोनपुर.पहले तो टिकट लेने में मारामारी करनी पड़ी.और जब टिकट मिल गया तो अन्दर जाने के बाद पता चला की थेयेटर में क्या होता है.और टिकट काउंटर पर क्या अफरा तफरी थी.खैर यकीन मानिये पहली बार देखा और जाना भी की अश्लील डांस क्या होता है.उसके बाद मेरे मन में ये धारना बन गई कि अश्लील डांस सिर्फ और सिर्फ ठेयेतरो में ही होते है.पर ये मिथक कुछ ही दिनों बाद टूट गया.पटना से निकलने के बाद पता चला कि अश्लील डांस सिर्फ फ़िल्मी परदे और ठेयेतरो के पंडालो तक ही सिमित नहीं है.मेरा अगला पड़ाव डेल्ही था .वहां एक दोस्त के साथ जागरण में जाने का मौका मिला.पर वहां भक्ति संगीत की धुन के बजाय लोग अश्लील फ़िल्मी गीत के धुन पर जयादा थिरक रहे थे.भोपाल में भी यही नज़ारा दिखा.वक़्त के साथ फेहरिस्त इतनी लम्बी हो गई है कि बहुत उदाहरण याद भी नहीं.इसीलिए आते है सीधे मुद्दे पर । बॉलीवुड का आइटम सोंग(मुन्नी बदनाम हुई/Sheela की जवानी ) हो.या दोअर्थी भोजपुरी आइटम सोंग (करेंट mare ली / तोहर लहगा उठा देब रिमोट से) हर आयोजन में सुनने को मिल जायेगे और दिखेगे इसकी धुन पर थिरकती बार बलाए .आलम ये है कि कोई नेता चुनाव जीतता है तो जश्न अश्लील ठुमके से होता है.कोई अधिकारी रिटायर होता है तो उसकी बिदाई मुन्नी बदनाम हुई/Sheela की जवानी से होती है.मेरी समझ से पहले अश्लील डांस का चलन बिहार - उत्तर प्रदेश तक ही था.पर अब तो हर स्टेट में इसका चलन हो गया है.छत्तीसगढ़ में कुछ दिनों पहले एक शहीद को अश्लील गीतों के जरिये याद किया गया.और बार बालाओ के डांस हुआ.ज़रा सोचिये क्या थे हम और क्या हो गए.

1 comment:

  1. raj ji jo dikhta hai wo bikta hai...aur buy and sale ke is daur me ap aur hum sirf is par objection utha sakte hain... but we cant change it...kyunki shayad hamari generation ko...apko aur hume ye dekhna bhi pasand hai...but anyway good effort...keep it up... susmita

    ReplyDelete